Homeलाइफ Styleपैरों में भी दिखते हैं हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण, इन्हें न करें...

पैरों में भी दिखते हैं हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण, इन्हें न करें अनदेखा

हाइलाइट्स

कोलेस्ट्रॉल हाई होेने पर दिल संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है.
हाई कोलेस्ट्रॉल होने पर पैरों, जांघों और हिप्स में क्रैम्प्स महसूस होता है.

Symptoms Of High Cholesterol: जब हमारे शरीर में फैट के रूप में कोलेस्ट्रॉल जमा होने लगता है तो इसे हाई कोलेस्ट्रॉल कहते है. हमें हेल्दी कोशिकाओं के निर्माण में कोलेस्ट्रॉल की जरूरत पड़ती है, अगर शरीर में कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ जाए तो आपको हार्ट की बीमारियों का खतरा भी तेजी से बढ़ता है. कोलेस्ट्रॉल लेवल ज्यादा होने से कोरोनरी आर्टरी डिजीज, कार्डियोवैस्कुलर डिजीज या स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है. क्‍योंकि हाई कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर कुछ लक्षण नज़र नहीं आते है, लेकिन फिर भी पैरों और हाथों में होने वाले कुछ बदलाव कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के शुरुआती लक्षण माने जाते हैं. इसे बिलकुल अनदेखा ना करें.

यह भी पढ़ेंः देर रात को भूख लग जाती है? इन फूड्स को खाने से मिलेगा पोषण

एक्सप्रेसडॉटकॉमडॉटयूके के अनुसार अधिक वजन को आमतौर पर हाई कोलेस्ट्रॉल के संकेत के रूप में पहचाना जाता है. हालांकि, आपके शरीर के अन्य भागों में कुछ वार्निंग साइन दिखाई दे सकते हैं, जब आपके पैरों की धमनियां बंद हो जाती हैं, तो ऑक्सीजन युक्त रक्त की पर्याप्त मात्रा आपके निचले हिस्से तक पर्याप्त नहीं पहुंच पाती है. इससे आपके पैर को भारी और थका हुआ महसूस करा सकता है.

कोलेस्ट्रॉल हाई होने पर पैरों, जांघों और हिप्स में क्रैम्प्स महसूस होता है. लेकिन कई बार आराम करने पर भी ये क्रैम्प्स कम नही होते हैं. इसमें पैरों में कमजोरी, पैर की उंगलियों, पैरों पर घाव शामिल हैं. कोलेस्ट्रॉल में पैर का घाव धीरे-धीरे या फिर बिल्कुल ठीक नहीं होता है. साथ ही ज्यादा कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर त्वचा का रंग पीला या नीला हो सकता है.

इसे भी पढ़ें: सुपर फ्रूट है अमरूद, इसकी पत्तियां भी हैं लाभकारी, जानें इस ‘विदेशी फल’ के औषधीय गुण

अगर आपको अपने शरीर में इनमें से कोई भी लक्षण महसूस करतें है तो उसे तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए. हाई कोलेस्ट्रॉल की आशंका वाले लोगों को रेड मीट, ब्राउन राइस, ब्राउन ब्रेड, ब्राउन पास्ता, नट्स, सीड्स, फल और सब्जियां आदि चीज़ो को खाना चाहिए. आप अपनी डाइट में सेचुरेटेड फैट में कटौती करें और अनसेचुरेटेड फैट का सेवन करें. इसके लिए जैतून, सूरजमुखी, अखरोट और बीजों के तेल का उपयोग करना चाहिए.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments